poetry

हवा-ए-इश्क

सुनो?

आज हवा ज़रा ठंडी है, करीब आजाओ,

तुम्हारा हाथ थामना है।

तुम्हारे हाथों की गर्माहट में मानो, ज़िन्दगी का सुकून है।
And when you look at me with those eyes,

There’s a fire that lights up inside the cells of my body and want to embrace you in a sudden fashion so that when my head rests on your chest, I listen to the song of your heart singing love songs.
तुम मेरे अंदर वो एहसास जगाते हो, जिसे मैं खो चुकी थी,

तुम्हारा होना ज़िन्दगी को गुलज़ार कर देता है।
हो सके तो मेरे प्यार के गुलाब में मोहब्बत की खामोशी बन जाना।
I’ll love you in silence. You just keep the windows open when winds come to say hi. 
फिर जब किसी दिन कोई हवा का रुख तुमसे मिल जाए, समझ लेना के मैंने प्यार भेजा था।

-Neha

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s